Best 37+ Sufi Shayari In Hindi *LATEST* (सूफी शायरों की शायरी)

Sufi Shayari In Hindi: सूफी का मूल अर्थ वह होता है जो की “ ऊन (ṣūf) पहनता है”14वीं शताब्दी में एक अरब इतिहासकार इब्न-ए-ख़लदुन ने सूफ़ीवाद को कुछ इस प्रकार से परिभाषित किया है,

"शोहरत, दौलत, तमाम तरह की दुनिया लज्ज़तों से खुद को बहुत दूर करके अपने रब से लौ लगाना और उसकी इबादत करना ही सूफ़ीवाद है. ऊनी कपड़े पारंपरिक रूप से तपस्वियों और मनीषियों से जुड़े थे। सूफ़ी का संदर्भ आत्मा के परमात्मा से मिलन से है। 

परमात्मा जो भी किसी भी नाम से आप उससे बुलाओ कोई फरक नहीं पढ़ता, वो सिर्फ दिल की आवाज सुनता है, आज हम आप के लिए ऐसे ही सूफी कोट्स सूफी अंदाज़ में लेकर आये है आइए चलते हैं सूफी शायरों की ओर। 

Sufi Shayari In Hindi

Sufi Shayari In Hindi
हुम्हे पता है तुम कहीं और के मुसाफिर हो,
हुम्हारा शहर तो बस यूँ ही रास्ते में आया था।
Sufi Shayari In HindiV
Sufi Shayari In Hindi
ख़ुदा ऐसे एहसास का नाम है, रहे सामने और दिखाई न दे 

Sufi Shayari In Hindi
कतरे कतरे पर खुदा की निगाहे करम है..
न तुम पर ज्यादा न हम पर कम है

Sufi Quotes In Hindi
आपके जीवन को केवल 
एक ही आदमी बदल सकता है, 
वह है आप खुद। 

Sufi Quotes In Hindi
Sufi Quotes In Hindi
आज इंसान का चेहरा तो है सूरज की तरह, रूह में घोर अँधेरे के सिवा कुछ भी नहीं..

Sufi Quotes In Hindi
मुझतक कब उन की बज़्म में आता था दौर-ए-जाम
साक़ी ने कुछ मिला न दिया हो शराब में

Sufi Quotes In Hindi
हमारा तो इश्क़ भी सूफियाना है इश्क़ करते करते हम खुद ही सूफी हो गए 

Sufi Shayari On God In Hindi
तुम जानते नहीं मेरे दर्द का कमाल ,
तुम को जहाँ मिला सारा, मुझे बस खुदा
अपनी #छवी बनाय के जो मैं पी के #पास गई
जब छवी देखी #पीहू की तो अपनी भूल गई
चुप - चाप  बैठे है, आज सपने मेरे लगता है हकीकत ने सबक सिखाया है...

Sufi Quotes In Hindi

Sufi Shayari On God In Hindi
Sufi Shayari On God In Hindi
मंजिलों की खबर खुदा जाने, इश्क है रहनुमा फकीरों का…

Sufi Shayari On God In Hindi
#सोचता हूँ कि अब अंजाम-इ-सफर क्या होगा, #लोग भी कांच के हैं, राह भी #पथरीली है..

Sufi Shayari
कश्तियाँ सब की किनारे पे पहुँच जाती हैं , नाख़ुदा जिन का नहीं उन का ख़ुदा होता है 

Sufi Shayari
Sufi Shayari
मंजिलो की खबर खुदा जाने , 
इश्क़ है रहनुमा फ़कीरो का 
हैफ़ उस चार गिरह कपड़े की क़िस्मत ‘ग़ालिब’
जिस की #क़िस्मत में हो आशिक़ का #गरेबाँ होना
एक ऐसी रात भी है जो कभी नहीं सोती ये सुन कर सो न सका रात भर नमाज़ पढ़ी हमने
दुनिया में तेरे इश्क़ का चर्चा ना करेंगे, मर जायेंगे लेकिन तुझे रुस्वा ना करेंगे,
#गुस्ताख़ निगाहों से अगर तुमको #गिला है, हम दूर से भी अब #तुम्हें देखा ना करेंगे।
हज़रत-ए-नासेह गर आवें दीदा ओ दिल फ़र्श-ए-राह
कोई मुझ को ये तो समझा दो कि समझावेंगे क्या
न अपनी #रूह पर पकड़, न धन #दौलत चली संग,
न दीन दुनिया अपनी हुई, न ढूंढ पाये हरी रंग
किस बात का वहम, किस बात का अहंकार
किस बात की कि मैं मेरी, किस बात की थी जंग

Sufi Shayari
#फ़रिश्ते ही होंगे जिनका हुआ इश्क मुकम्मल, #इंसानों को तो हमने सिर्फ #बर्बाद होते देखा है…
न मांझी न हमसफ़र, न हक़ में हवाएं,
और कस्ती भी जर्जर, ये कैसा सफर है,
अलग मजा है फ़क़ीर का अपना ..
न #पाने की चिंता न #खोने का डर है।
जग में आ कर इधर उधर देखा 
तू ही आया नज़र जिधर देखा 
पूछा मैं दर्द से कि बता तू सही मुझे
ऐ ख़ानुमाँ-ख़राब है तेरे भी घर कहीं
कहने लगा मकान-ए-मुअ’य्यन फ़क़ीर को
लाज़िम है क्या कि एक ही जागह हो हर कहीं
किस #तरह छोड़ दूँ ऐ यार मैं #चाहत तेरी
मेरे ईमान का हासिल है मोहब्बत तेरी
मैं अपने सैयाँ संग साँची
अब काहे की लाज सजनी परगट होवे नाची
दिवस भूख न चैन कबहिन नींद निसु नासी

Sufi Shayari

Sufi Poetry In Hindi
शराब पीने दे मस्जिद में बैठ कर, या वो जगह बता जहाँ पर खुदा नहीं
होने दो तमाशा मेरी भी जिंदगी का..
मैंने भी बहुत तालिया बजाई है मेल में...
सर #झुकाने की #खूबसूरती भीक्या कमाल की होती है..
धरती पर सर रखो और दुआ आसमान में कबूल हो जाती है..
कुछ इस तरह मैंने जिंदगी को आसा कर लिया किसी 
से माफ़ी मांगी, और किसी को माफ़ कर दिया। 
जमीर ज़िंदा रख,
कबीर ज़िंदा रख,
सुल्तान भी बन जाए तो,
दिल में फ़क़ीर ज़िंदा रख..
क्या इल्जाम लगाओगे मेरी आशिकी पर
हम तो #सांस भी तुम्हारी यादों# से पूछ कर लेते हैं

Sufi Poetry In Hindi
Sufi Poetry In Hindi
सुनो! एक तो मैं 'सूफ़ी सा बन्दा' और उस पर तुम एक 'मासूम सी परी'... उफ्फ्फफ ! कमबख्त 'इश्क' तो होना ही था हो गया 
बयान नहीं होता अब हाल-इ-दिल हमसे तुम समझ जाओ खुद से तो खुदा की रहमत समझें हम..!!
तलब #मौत की क्यूं करना गुनाह ए कबीरा है मरने का #शोंक है तो इश्क़ क्यों नहीं करते
तिरी चाहत के भीगे जंगलों में
मिरा तन मोर बन कर नाचता है
क्या है राज ए #नसीबा खुदा जानता है फेंक आसा ज़मीन पे #मूसा आगे खुदा जानता है करके जुदा याकूब से युसुफ को ये भी राज #खुदा जानता है कौनसा रास्ता है मंज़िल मुराद ये बात बस सिर्फ #खुदा जानता है। शहादत ए इमाम हुसैन #अलैहिस्सलाम की बेहतर सब से #खुदा जानता है।

तो आपको हमारे Sufi Shayari In Hindi कैसे लगे। अगर यह कोट्स आपको पसंद आया है तो अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ शेयर करना ना भूले। आपको इन Sufi Quotes In Hindi को पढ़कर काफी अच्छा महसूस हुआ होगा। आगे भी ऐसी  कोट्स के लिए हमे Follow करे हमारे Instagram पर और Quotes को Share करे। धन्यवाद।

Previous Post
Next Post
Related Posts